Translate

शुक्रवार, 8 दिसंबर 2017

हाकिमों के हाथ ...

दुश्मनों  की  नब्ज़  में  धंसते  हुए
ख़ाक  में  मिल  जाएंगे  हंसते  हुए

ज़र्द  पड़ती   जा  रही  है   ज़िंदगी
तार  दिल  के  साज़  के  कसते  हुए

साफ़  कहिए  क्या  परेशानी  हुई
शह्रे-दिल  में  आपको  बसते  हुए

इश्क़  जिसने  कर  लिया  सय्याद  से
कुछ  न  सोचा  जाल  में  फंसते  हुए

आस्तीं  में  पल  रहे  हैं  मुल्क  की
नाग  काले   रात-दिन   डसते  हुए

थे  हमारे  आशियां  कल  तक  जहां
ताजिरों  के     नाम  के    रस्ते  हुए

मुफ़लिसो-मज़्लूम  के  ख़ूं  से  सने
हाकिमों  के    हाथ   गुलदस्ते  हुए  !

                                                                        (2017)

                                                                   - सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ:





गुरुवार, 7 दिसंबर 2017

...मयार खो बैठे !

रास्ते   कम  नहीं    मोहब्बत  के
पर  क़दम  तो  उठें  इनायत  के

जानलेवा  है        मौसमे  सरमां
हिज्र  में   दिन  हुए   हरारत  के

बात  क्या  इश्क़  की  करेंगे  वो
जो   तरफ़दार  हैं   अदावत  के

शाह  की  बद्ज़ुबानियां  तौबा !
बोल  तो  देखिए  हिकारत  के

आप  अपना   मयार   खो  बैठे
छोड़  कर  दायरे  शराफ़त  के

जान  लें  काश्तकार  नफ़रत  के
दिन  गए  गंद  की  सियासत  के

एक  रब  को   मना   नहीं  पाते
खुल  गए  दर  कई  इबादत  के  !

                                                             (2017)

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: इनायत : कृपा; मौसमे सरमां : शीत ऋतु; हिज्र : वियोग; हरारत : हल्का ज्वर; तरफ़दार : पक्षधर; अदावत : शत्रुता; बद्ज़ुबानियां : अभद्र भाषा के प्रयोग; हिकारत : तिरस्कार, घृणा, अपमान; मयार : उच्च स्थिति; दायरे : परिधियां; शराफ़त : भद्रता, शालीनता; काश्तकार : फ़सल उगाने वाले, कृषक; नफ़रत : घृणा; गंद : मलीनता, कीचड़; रब : ईश्वर; दर : द्वार, स्थान; इबादत : पूजा। 

बुधवार, 15 नवंबर 2017

ख़ुद्दारियां हमारी ...

हर  शख़्स        जानता  है       दुश्वारियां  हमारी
शाहों  को      खल  रही  हैं      ख़ुद्दारियां  हमारी

या   तो  क़ुबूल  कर  लें  या  हम  कमाल  कर  दें
महदूद  हैं        यहीं  तक         ऐय्यारियां  हमारी

ऐ  चार:गर      कभी  तो      ऐसी  दवा     बता  दे
क़ाबू  में       कर  सकें  जो       बीमारियां  हमारी

तुम  भी    ग़लत  नहीं  हो   हम  भी   बुरे  नहीं  हैं
किस  बात  की     सज़ा  हैं   फिर  दूरियां  हमारी

अह् ले-सितम  समझ  लें   फ़ातेह  हों  न  हों  हम
अबके          शबाब  पर  हैं        तैयारियां  हमारी

सरकार   जिस  तरह  से    घुटनों  पे    आ  गई  है
तय  है          असर  करेंगी         बेज़ारियां  हमारी

क्यूं   सज्द:गर  नहीं  हम     इस   दौरे-ज़ालिमां  में
क्या        जानता  नहीं  वो:        मजबूरियां  हमारी  !

                                                                                          (2017)

                                                                                     -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ: शख़्स : व्यक्ति; दुश्वारियां: कठिनाइयां; ख़ुद्दारियां :स्वाभिमानी कार्य; क़ुबूल :स्वीकार; कमाल :चमत्कार; महदूद:सीमित: ऐय्यारियां :चतुराईयां; चार:गर :उपचारक; क़ाबू :नियंत्रण; सज़ा :दंड; बेज़ारियां :विमुखता, अप्रसन्नताएं; सज्द:गर :साष्टांग प्रणाम करने वाले; दौरे-ज़ालिमां :अत्याचारियों का काल।  


शुक्रवार, 10 नवंबर 2017

करें क़त्ल हमको ...

ग़रीबों  का  दिल    'गर   समंदर  न  हो
तो  दुनिया  कभी  हद  से  बाहर  न  हो

करें         क़त्ल  हमको      बुराई  नहीं
अगर    आपका  नाम     ज़ाहिर  न  हो

रहे  कौन       ऐसी  जगह  पर       जहां
कहीं       आश्नाई   का      मंज़र   न  हो

महज़      इत्तिफ़ाक़न     चली  है    हवा
ये:  सेहरा   किसी  और   के  सर  न  हो

न  देखा  करें        आप      अब  आइना
अगर     पास  में     कोई    पत्थर  न  हो

मिलें    रू-ब-रू   जब  कभी   आप-हम
तो  दिल  पर  सियाही  की  चादर  न  हो

बुलंदी          सलामत  रहे         आपकी
मगर   क़द     ख़ुदा  के    बराबर  न  हो  !

                                                                                (2017)

                                                                           -सुरेश   स्वप्निल 

शब्दार्थ: समंदर: समुद्र; हद: सीमा; ज़ाहिर: प्रकट; आश्नाई: मित्रता; मंज़र: दृश्य; महज़: मात्र; इत्तिफ़ाक़न: संयोगवश; सेहरा: श्रेय; रू-ब-रू: मुखामुख, आमने-सामने; सियाही: कालिमा, मलिनता, बैर-भाव; बुलंदी: उच्चता; सलामत: सुरक्षित, यथावत; क़द: ऊंचाई। 

सोमवार, 6 नवंबर 2017

फ़र्क़ का फ़लसफ़ा...

बहरहाल  कुछ  तो  हुआ  है  ग़लत
तुम्हारी  दुआ    या  दवा   है   ग़लत

ख़बर  ही     नहीं  है    शहंशाह  को
कि  हर  मा'मले  में  अना  है  ग़लत

हुकूमत    निकल  जाएगी    हाथ  से 
अगर  सोच  का  सिलसिला  है  ग़लत

तमाशा -ए- ऐवाने - जम्हूर            में
बहस  का   हरेक  मुद्द'आ    है  ग़लत

न  हिंदू    भला  है    न  मुस्लिम  बुरा
कि  ये: फ़र्क़ का  फ़लसफ़ा  है ग़लत

ख़ुदा   लाख   हमको    पुकारा   करे
कहां  ढूंढिए    हर  पता  है     ग़लत  ! 

                                                                        (2017)
       

                                                                    -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: बहरहाल: अंततोगत्वा, अंततः; दुआ: प्रार्थना; ख़बर: बोध, ज्ञान; अना: अहंकार; हुकूमत: शासन, सत्ता; सोच का सिलसिला: विचारधारा; तमाशा-ए-ऐवाने-जम्हूर: लोकतांतत्रिक सदनों के प्रहसन; मुद्द'आ: विषय; फ़लसफ़ा: दर्शन; बहर: छंद; क़ाफ़िया: तुकांत शब्द। 

गुरुवार, 2 नवंबर 2017

बहुत देखे सिकंदर ....

कम  अज़  कम  क़त्ल  तो  कीजे  ख़ुशी  से
न  होगा          काम  ये          मुर्दादिली  से

बवंडर  ही       उठा  देगा        किसी  दिन
लगाना  आपका      दिल      हर  किसी  से

निभाना  हो          ज़रूरी         तो  निभाएं 
न  थामें  हाथ          लेकिन        बेबसी  से 

न  हो  मंज़ूर      जिसको     साथ  ग़म  का
निकल  जाए         हमारी         ज़िंदगी  से

ख़राबी        ख़ाक  समझेंगे       'ख़ुदा'  की
जिन्हें           फ़ुर्सत  नहीं  है        बंदगी  से

बहुत  देखे         सिकंदर  शाह         हमने
गए          तो  हाथ  ख़ाली  थे        ख़ुदी  से

तिजारत  क्या                हमें  रुस्वा  करेगी
हमारी  लौ         लगी  है       मुफ़लिसी  से  !

                                                                               (2017)

                                                                         -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ:

गुरुवार, 19 अक्तूबर 2017

जिधर तू नहीं ....

हवा  में  घुटन  है  मगर  क्या  करें
कि  तूफ़ान  में  और  घर  क्या  करें

फ़क़त  एक  ही लफ़्ज़   है  दर्द  का
ये:  क़िस्सा-ए-ग़म  मुख़्तसर  क्या  करें

जहां  रिज़्क़  एहसां  जता  कर  मिले
दवाएं  वहां  पर  असर  क्या  करें

क़फ़न  लूट  कर  भी  तसल्ली  नहीं
यक़ीं  लोग  उस  शाह  पर  क्या  करें

जहालत  हुकूमत  चलाए  जहां
तो  कहिए  कि  अह् ले-सुख़न  क्या  करें

न  आए  जिन्हें  याद  हम  उम्र  भर
उन्हें  आख़िरत  की  ख़बर  क्या  करें

जहां  तू  उसी  बज़्म  में  नूर  है
जिधर  तू  नहीं  हम  उधर  क्या  करें  !

                                                                                (2017)

                                                                            -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: फ़क़त: केवल, मात्र; लफ़्ज़: शब्द; क़िस्सा-ए-ग़म: दुःख की गाथा; रिज़्क़: भोजन; एहसां: अनुग्रह; क़फ़न: शव-आवरण; यक़ीं: विश्वास; जहालत: अज्ञान, मूर्खता; हुकूमत: शासन; अह् ले-नज़र: बुद्धिजीवी, सुदृष्टिवान;  आख़िरत: अंत-समय; बज़्म: सभा, गोष्ठी; नूर: प्रकाश।